Skip to Secondary Navigation Skip to Main Content

Current Domain

MumbaiChange

इंटरनेट की दुनिया

Internet
सौजन्य: 36kr.blog.caixin.com

जब कंप्यूटरों इजाद हुये तब, कंप्यूटर लोगों की पहुच से काफी दूर हुआ करतें थे। यही नहीं कंप्यूटर के आकर भी बहुत बड़े हुआ करतें थे। ऐसा कहा जाता है की, बिलकुल शुरूआती दौर के कंप्यूटर एक कमरे के आकर के बनाये गए थे। लेकिन धीरे धीरे अब वही कंप्यूटर का आकार छोटा होते होते लैपटॉप, टेबलेट्स, मोबाइल और यहाँ तक की घड़ियों के आकार में आज बाज़ारों में उपलब्ध हैं। यह सभी छोटे छोटे यंत्र उन बड़े बड़े कंप्यूटर की अपेक्षा ज्यादा अच्छे, सस्ते, और तेज़ कार्य करने के लिए जाने जातें है। 

1837 में जब चार्ल्स बेबेज ने जब कंप्यूटर का इजाद किया होगा तब शायद यह नहीं अंदाज़ा लगाया होगा की उसी कंप्यूटर पर इंटरनेट की मदद से पूरे विश्व में क्रांति लाई जा सकती है। सितम्बर 1969 में जब पहली बार इंटरनेट की मदद से एक डेटा दूसरी जगह पंहुचा तो दुनिया को एक साथ जोड़ने का ख्वाब पूरा होता नज़र आया।  

डिजिटल क्रांति पूरे विश्व में बहुत अनोखी क्रांति है। जिसने पूरे विश्व को अपनी मुट्ठी में बंद कर लिया है। ख़ास तौर से इंटरनेट आने के बाद, पूरा विश्व एक घर के समान हो गया है।इंटरनेट के जरिये हम पत्र व्यवहार, मैसेजिंग, ऑनलाइन कॉल, और यही नहीं स्काइप जैसे सॉफ्टवेयर के जरिये आज आप विडियो कॉल कर सकतें है। इस क्रांति से समय तो बचता ही है वहीँ लागत के हिसाब से भी यह वाजिब होता है।

इस आर्टिकल में हम आपको बताएँगे की आप बढ़ती प्रतिस्पर्धा में किस तरह से इन्ही डिजिटल माध्यमों का इस्तेमाल कर अपने कार्य, बिज़नस, प्रोजेक्ट्स को अच्छा और ऊँचाइयों पर पहुंचा सकतें है। साथ ही वो कौन कौन से तरीकें है जो आपको और आपके बिज़नस को सकारात्मक रूप दें सकतें है, इन सभी बातों को जानने के लिए बांये ओर की लिंक पर क्लिक करें...

थॉमसन थॉमस
डोमेंज़ गुरु
एस- 10, फेनटासिया बिज़नस पार्क, वाशी, नवी मुंबई – 703 
दूरध्वनी क्र. 022- 64642828, 9870121314 
ईमेल - support@domainzguru.com
वेबसाईट - http://domainzguru.com

(विशुल ब्राऊन की थॉमसन थॉमस से हुई बातचीत के आधार पर)

3.666665
Average: 3.7 (9 votes)
Your rating: कुछ नहीं
© Copyright 2001 - 2017 One Global Economy Corporation